शनिवार, 24 मार्च 2018

विज्ञान की दुनिया- देवेन्द्र मेवाड़ी

विज्ञान की दुनिया ( पेपरबैक संस्करण)
लेखक-- देवेंद्र मेवाड़ी
मूल्य- ₹ १५० मात्र
संस्करण- 2018

इससे पहले कि इस किताब के बारे में कुछ कहें, एक छोटी सी चर्चा नवारुण प्रकाशन और संजय जोशी के बारे में। संजय जोशी को सबसे पहले प्रख्यात हिन्दी कथाकार शेखर जोशी के सुपुत्र के रूप में जाना था। हुआ यूँ कि शेखर जी का फ़ोन किसी दिन नहीं लग रहा था और उसी समय किसी ने इनका नम्बर भेजकर कहा कि संजय भाई को फ़ोन कर लो। उनसे शेखर जी का हालचाल मिल जाएगा।
फिर धीरे धीरे उनकी सिनेमाई गतिविधियों और "प्रतिरोध का सिनेमा" के बारे में जाना। अपने जुनून और जिद के प्रति अत्यंत निष्ठावान और समर्पित संजय जोशी ने कुछ वर्ष पहले "नवारुण प्रकाशन" की स्थापना की। यहाँ भी उनका उद्देश्य धन संचय नहीं रहा। इसीलिए उन्होंने मात्र उन विधाओं की किताबें प्रकाशित की जिन्हें वे अपने विचारों और प्रतिबद्धता के अनुरूप पाते हैं। कहानी, उपन्यास, और सामयिक कविता जैसी लाभदायक विधाओं का क्रम अगले चरण में ही आएगा। लीक से हटकर काम करने के इसी प्रयास का परिणाम है यह किताब। इसके लेखक देवेंद्र मेवाड़ी जी को कौन नहीं जानता होगा। वरिष्ठ विज्ञान लेखक, अनुवादक, संपादक और विद्वान वक्ता के रूप में उनकी उपलब्धियाँ आश्चर्यजनक हैं। दूर दराज के विद्यालयों में जाकर हजारों बच्चों को विज्ञान कथाएँ सुनाने वाले मेवाड़ी साहब कई राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित हो चुके हैं।
देवेंद्र मेवाड़ी जी ने अपनी इस खूबसूरत किताब को समर्पित किया है " उन हजारों प्यारे बच्चों को जो जानना चाहते हैं कि उनकी यह दुनिया कैसी है..."

"विज्ञान की दुनिया" नामक इस किताब में उनके तीस लेख हैं जिनमें विज्ञान, ब्रह्मांड, पृथ्वी,अंतरिक्ष, धूमकेतु, सुनीता विलियम्स, चंद्रयान, रोबोट, डायनासोर, अन्य पशु पक्षी, दीमक, सारस, फूलों, पर्यावरण, आम, त्योहार ज्योनार, परियाँ, लाइकेन, 12 वर्षों बाद खिलने वाला फूल नीला कुरिंजी, प्राचीन भारत के महान खगोल वैज्ञानिक, कुछ अनसुलझे रहस्य, जैसे विविध विषयों का वर्णन बेहद रोचक और सरस शैली में हुआ है। बच्चों के लिए रचे गए इस अनुपम उपहार के लिए संजय जोशी और देवेंद्र मेवाड़ी को जितना धन्यवाद कहें, कम है। मानसी मेवाड़ी द्वारा निर्मित इस किताब का आवरण बेहद सुंदर है। प्रकाशन के अन्य मानकों पर भी यह पुस्तक शानदार है। पेपर और अक्षरों के आकार की गुणवत्ता भी काबिले तारीफ़ है।
कुछ व्यक्तिगत कारणों से संजय भाई इस किताब को परिदृश्य प्रकाशन मुम्बई में उपलब्ध नहीं करा रहे हैं। अतः इस पुस्तक को प्राप्त करने के इच्छुक आदरणीय मित्र गण सीधे संजय जोशी जी से ही संपर्क करें।

नवारुण प्रकाशन
Sanjay Joshi
Deven Mewari

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सूर्यभानु गुप्त

मीर और गालिब के समय से शुरू हुआ ग़ज़लों का तीन सौ वर्ष पुराना सफर आज भाषा, शिल्प और संवेदना की तमाम चौहद्दियों को पार कर लोकप्रियता की एक अनूठ...