बुधवार, 27 जून 2018

मालती जोशी के गीत

जग की संध्या घिर आयी है
मेरे आँगन में दोपहरी
कैसे दीप जलाऊँ

ममता से भीगे पर लेकर
पंछी घर को लौट चले हैं
देहरियों पर सुहागिनों के
नयनों के शत दीप जले हैं
भटकी सुधियाँ घर आई हैं
सूनी फिर भी मेरी नगरी
मैं कैसे मुस्काऊँ

गद्गद कंठों से पूजा के
मंगलमय पद फूट पड़े हैं
तुलसी माँ के आगे कितने
मेहँदी वाले हाथ जुड़े हैं
मेरी आँखें भर आयी हैं
लेकर कैसी साध सुनहरी
मैं आँचल फैलाऊँ

2

अपना सीमित सा प्रकाश ले
दीपशिखा जलती है निशि भर
फिर भी मोहित है जग सारा
क्षण भंगुर विद्युत की छवि पर

मेघों का दिल चीर चीर कर
मुस्काना उसको आता है
झलक पलक भर दिखा गगन को
तड़पाना उसको आता है

शून्य लोक में छिप छिप जाती
खोज खोज रह जाता अम्बर
फिर भी मोहित है जग सारा
क्षण भंगुर विद्युत की छवि पर

नन्हे ये दीपक में लघु सा
स्नेह लिए जलते ही जाना
राख बना अपने प्राणों को
पथ भूलों को राह दिखाना

जीवन दान किया तो वह भी
पवन झकोरों से डर डर कर
अपना सीमित सा प्रकाश ले
दीपशिखा जलती है निशि भर।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कवि की यात्रा: आलोक भट्टाचार्य

मुम्बई के साहित्यिक परिदृश्य पर कवि, आलोचक, कथाकार  आलोक भट्टाचार्य की लम्बी और सक्रिय उपस्थिति रही है। कुशल मंच संचालन के लिए भी उनका बड़ा न...