बुधवार, 14 फ़रवरी 2018

पतझड़

पत्तियों के टूटकर गिरने का मौसम
आने वाला है
किसी दिन ये निःशब्द पेड़ों से
झर जायेंगी,
बग़ैर किसी तरह का शोर किये....

क्योंकि मालूम है उन्हें कि
यही इस जीवन का दस्तूर है
सृष्टि की हर शय को
वापस लौट जाना है नेपथ्य में
अपनी भूमिका ख़त्म होने के बाद....

और ये भी मालूम है कि
उनके जाने के साथ आया हुआ
पतझड़ भी नही होगा स्थायी
हाँ कुछ दिनों तक सन्नाटा सा ज़रूर रहेगा
और खाली खाली उदास सी लगेंगी
इन पेड़ों की टहनियाँ
पर इन्हीं टहनियों पर फिर एक दिन
नन्ही नन्ही कोंपले फूटेंगी
और धीरे धीरे ये उजड़े हुए पेड़
फिर हरे भरे हो जायेंगे।

पुरानी डायरी के पन्नों से....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मेरी बस्ती में रौशनी है अभी- हृदयेश मयंक

" वर्तमान भारतीय समाज अनेक प्रजातीय तत्वों व संस्कृतियों के सम्मिश्रण से बना है। इसकी बृहद और व्यापक सांस्कृतिक परम्पराएँ रही हैं। सैकड़...